Ind Vs Aus:ग्लेन मैक्सवेल ने T20 में रोहित शर्मा के इस रिकॉर्ड की कर ली बराबरी,रच दिया इतिहास।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले जा रहे पांच T20 मैचों की सीरीज का यह तीसरा मैच गुवाहाटी में खेला गया जहां पर ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया और टीम इंडिया को बल्लेबाजी करने का न्यौता दिया टीम इंडिया ने 20 ओवर में तीन विकेट के नुकसान पर 222 रन का महा लक्ष्य खड़ा कर दिया जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने 225 रन बनाकर इस मैच को जीत लिया जिसमें अहम योगदान ग्लेन मैक्सवेल का था उन्होंने 104 रन बनाकर टीम को जीत दिलाई टीम इंडिया अभी भी  सीरीज में 2–1 से आगे है।

ग्लेन मैक्सवेल इस मैच में तूफानी बल्लेबाजी करते हुए मात्र 48 गेंद में 104 रन बना डालें और टीम की नैया पार लगाई और आखिरी ओवर में 23 रन जड़ कर टीम इंडिया के मुंह से मैच को निकाल लिया।

शर्मा के इस रिकॉर्ड की कर ली बराबरी

ग्लेन मैक्सवेल T20 में सबसे ज्यादा शतक लगाने के मामले में रोहित शर्मा के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है इससे पहले रोहित शर्मा T20 में सबसे ज्यादा चार शतक लगा चुके हैं ग्लेन मैक्सवेल भी अब इस  लिस्ट में शामिल हो गए हैं उन्होंने कल गुवाहाटी में शतक लगाकर रोहित शर्मा के चार शतक की बराबरी कर ली है और दोनों नंबर वन पोजीशन पर काबिज हैं।

ग्लेन मैक्सवेल ऑस्ट्रेलिया की तरफ से सबसे तेज शतक लगाने के मामले में आरोन फिंच और जॉन इंग्लिश के भी रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है दोनों ने 47 गेंद में शतक लगाए थे अब इस लिस्ट में ग्लेन मैक्सवेल का नाम भी जुड़ गया है।

सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले बल्लेबाजों की लिस्ट

रोहित शर्मा –4 शतक

ग्लेन मैक्सवेल –4 शतक

बाबर आजम–3 शतक

सबावून डेविसी–3 शतक

कोलिन मुनरो –3 शतक 

सूर्यकुमार यादव–3 शतक

टीम इंडिया की तरफ से सबसे ज्यादा रन ऋतुराज गायकवाड़ ने बने उन्होंने 57 गेंद में 123 रन बनाएं और वहीं पर सूर्यकुमार यादव ने 29 गेंद में 39 रन बनाए टीम इंडिया मजबूत स्थिति में दिख रही थी लेकिन मैक्सवेल की तूफान में टीम इंडिया की सारी उम्मीदों पर पानी फिर गया।

शुरुआत में ऑस्ट्रेलिया की भी स्थिति ठीक नहीं थी बाद में ग्लेन मैक्सवेल ने पारी को संभाला और कप्तान मैथ्यू वेड के साथ मैच को फिनिश किया ग्लेन मैक्सवेल ने अपने 100 में T20 मैच में शक जोड़कर टीम को जीत दिलाई और सीरीज में बने रहने में अहम भूमिका निभाई ऑस्ट्रेलिया पिछला दो मुकाबला हार चुका था ऐसे में उसके पास करो या मरो की स्थिति थी और इस स्थिति में मैक्सवेल ने बाजी मारी और टीम की उम्मीदों को कायम रखा।

Leave a comment